Hindi Shayri by Prateek Dave

अगर मेरी यादों का कारवां तुम्हारे साथ होता
तुम होती मुसाफिर और मैं तुम्हारा मुकाम होता

-Prateek Dave

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories