Hindi Shayri by Prateek Dave

सपनो की भाषा थकी हुई आँखें भी पढ़ जाती हैं
कोई चाहत जब महज नादान जिद नहीं रह जाती है

-Prateek Dave

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories