Hindi Blog by Poetry Of SJT

बहुत रूठने लगी हैं ख्वाहिशें मुझसे ,
मुफलिसी के घर में रहने लगा हूं अब ,
कोई भूले से आना नहीं चाहता यहां ,
खुद अप

read more

View More   Hindi Blog | Hindi Stories