Hindi Shayri by Saurabh Sangani

मन निराश हे फिर भी दिल खुश हे।
वक्त का आलम देखो दोनो अपनेपन में मस्त हे॥

~प्रक्रुती की ख़ुश्बू

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories