Hindi Religious by Saurabh Sangani

हमें सरल प्रहलाद समजकर
सतत तर्जना जो देते हैं ।
नित्य हमारी
मृदु रुजता पर
हंस हंस कर
जो रस लेते हैं ।
read more