Hindi Shayri by Pravin Khavda

दिल क्या मिलाओगे कि हमें हो गया यक़ीं,
तुम से तो ख़ाक में भी मिलाया न जाएगा।

-Pravin Khavda

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories