Hindi Shayri by Pragya Chandna

एहसास लिखुं, जज़्बात लिखुं या फिर गहरे राज़ लिखुं,
ए कलम अब तु ही बता, मैं कैसे अपने हालात लिखुं।

-Pragya Chandna

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories