Hindi Romance by Pragya Chandna

मेरी खामोशियों को भी वह
ऐसे समझ रहा है,
जैसे किसी कागज़ पर लिखें
अल्फाज़ पढ़ रहा है।

-Pragya Chandna

View More   Hindi Romance | Hindi Stories