Hindi Shayri by Pravin Khavda

अपने होठो से कुछ न कह कर,
आँखों से सब कह जाती हो,
तुम जब भी मुझसे मिलने आती होज
मुझसे मुझ ही को चुरा जाती हो।

read more

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories