Hindi Microfiction by Falguni Shah

रिक्त स्थान भी भर जाता है
ठीक वैसे ही जैसे
मैंने हवा को छू लिया

-Falguni Shah©

View More   Hindi Microfiction | Hindi Stories