Free Hindi Shayri Quotes by Alok Mishra | 111664614

रिश्तों की समझ न तुम में थी न मुझ में ।
महोब्बत की महक न तुम में थी न मुझ में ।
बस दो जिस्म थे मिले और बिछड़ गए

read more

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories