Hindi Poem by Mohit Trendster

दिल्ली बड़ी दूर है, किसान भाई! #ज़हन

वह भागने की कोशिश करे कबसे,
कभी ज़माने से तो कभ

read more

View More   Hindi Poem | Hindi Stories