Hindi Shayri by Saurabh Sangani

रखी थी हमने दोर कच्चे धागे की रिस्ते में ।
उसने गाँठ एसी लगायी हमें क्या पता ॥

वोतो रिस्ता हम यूँही निभाते रह

read more

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories