Hindi Shayri by Praful Joshi

परछाइयों का मेला है
कुछ पल का बसेरा है
क्यूं रोता है मुश्किल घड़ी में
होता वही है जो होना है

-Praful Joshi

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories