Hindi Poem by Satender_tiwari_brokenwordS

पश्मीना और तबस्सुम

कुछ खो सा गया है न जाने कहाँ
शरारतों का बचपन अब मिलता नहीं
परत सी कोई जम गई है दुंधली सी

read more

View More   Hindi Poem | Hindi Stories