Hindi Poem by Satender_tiwari_brokenwordS

कर्मपथ

कर्म करूँ या पथ निहारूँ
या रस्ता खोजूँ मंज़िल का
कहाँ है जाना कहाँ नहीं
सवाल करूँ खुद से खुद का।। read more