Hindi Thought by Nilam Vithlani

ए बादल मेरी आँखे तुम रख लो
कसम् से बड़ी माहिर हैं बरसने मै

View More   Hindi Thought | Hindi Stories