Hindi Shayri by અંજાન K : 111617489

पिरो दिये मेरे आंसू हवा ने शाखों में
भरम बहार का बाक़ी रहा निगाहों में
सबा तो क्या कि मुझे धूप तक जगा न सकी
कहा

read more

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories