Hindi Shayri by ए- हुस्न - की - राजकुमारी : 111613936

कुछ अधुरापन था, जो कभी पुरा हुआ हि नहीं ,

कोइ था मेरा, जो मेरा हुआ हि नहीं..

ए- हुस्न - की - राजकुमारी

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories