Hindi Shayri by शब्दांकूर : 111613452

मय की हर बूंद भी शरम से झूक जाये
ये तेरी आंखे है या मयखाना भरा हुआ

-शब्दांकूर

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories