Hindi Shayri by ए- हुस्न - की - राजकुमारी : 111601066

मोहब्बत तब ही करो
जब उसे निभा सको
बाद में मजबूरियों का सहारा लेकर
किसी को छोड़ देना वफ़ादारी नहीं होती।
ऐ-

read more

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories