Hindi Shayri by Santosh Doneria : 111594216

बात मुख़्तसर बस इतनी ही है 'सन्तोष',
जीने की ख्वाहिश दम तोड़ सी रही है ।
------------------
- सन्तोष दौनेरिया


(मुख़्

read more

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories