Hindi Shayri by Tara Gupta : 111587575

इतनी पीडा दी है मुझको जितनी सागर में गहराई हर पग पर शूल बिखेरे
उन पर चलकर मैंने अपनी राह बनाई

-Tara Gupta

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories