Hindi Shayri by Tara Gupta : 111583378

खुशियों के गुलाब मुरझाए बची वेदना शूल।
उजड़ गया सपनों का सावन बही हवा
प्रतिकूल।

-Tara Gupta

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories