Hindi Poem by Rajesh Mewade : 111575559

जैसे बहती है रेत
समंदर की लहरों में-
टकराती है,परस्पर
करती है बातें.......

उन दो लोगों की
जो करते हैं बाते

read more

View More   Hindi Poem | Hindi Stories