Hindi Shayri by Kiran Patel : 111573750

पल जितने भी गुजार लूं
तेरी बाहों में मेरे यार,

फिर भी धड़कने गुनगुनाती है
तू थोड़ी देर और ठहर जा।

~ किर

read more

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories