Hindi Shayri by Kishan4ever@kgbites : 111570366

क्या ख़ाक तरक़्क़ी की आज की दुनिया ने,

मरीज़-ए-इश्क़ तो आज भी लाइलाज बैठे हैं..✍️

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories