Hindi Thought by Pragya Chandna

अनिर्धारित सी ये जिंदगी
कब हमारे कहने से चली।
यह तो बहती उग्र इक नदी
जिसके तट बांधना है नामुमकिन।
read more

View More   Hindi Thought | Hindi Stories