Hindi Shayri by Bhupendra Dongriyal : 111568167

बदलता दौर इन्सानियत खल्लास है,
नकली हँसी नकली उल्लास है।
घनघोर बादलों सा उमड़ता प्यार अस्थायी है,
यहाँ जीवन स

read more

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories