Hindi Shayri by Riddhi Shah Mehta : 111567519

ठहाका मारके हँसते हैं, खुद के बर्बाद मंज़र पर।

के हम खुद्दार हैं, औरों को मौका नहीं देते।

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories