Hindi Shayri by Chahat

गज़ल#

ज़िक्र तेरा महफिलों में हम बता सकते नहीं
तुम हो कोहीनूर सबको तो दिखा सकते नहीं

फूल के जैसे महक उठत

read more

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories