Hindi Poem by Shobhna Goyal : 111555098

क्यूँ ये सफ़र जिंदगी का ,
कहीं थमता नहीं ,
क्योंकि भार अब जिंदगी का ,
सहा जाता नहीं ।
कोई मंजर रास्तों के ,
अब

read more

View More   Hindi Poem | Hindi Stories