Hindi Poem by Thakur Aryan Singh

इक रूह मेरे बिछौने पर बैठी।
बड़ी ही हसरत निगाहों से मुझे ताकती है,
मेरे सोते हुए बदन में शायद ,वो मेरी रूह को झां

read more

View More   Hindi Poem | Hindi Stories