Hindi Poem by Arjuna Bunty : 111538191

देखा है।




लाभ को लोभ बनते देखा है
अपनों को अपनों से लड़ते देखा है

गैरत तो अब रही नहीं, मैंने उसे भ

read more

View More   Hindi Poem | Hindi Stories