Hindi Book-Review by Swati Suman : 111535288

ये जो दिल की बात दिल में रखते हो न
और आंसू को छिपा कर बिलखते हो न

कांधे खोजते हो सर को रखने के लिए
वजह बस यही ह

read more

View More   Hindi Book-Review | Hindi Stories