Hindi Shayri by Kish

शाम से आँख में नमी सी है
आज फिर आप की कमी सी है

सम्पूर्ण सिंह "गुलजार"

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories