Hindi Shayri by Girish Makwana : 111529357

मुजमे खूबी भी है, मुजमे ऐब भी है,
'मेरे दोस्त' फिर भी मेरे करीब ही है|
-गीरीश मकवाणा

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories