Hindi Shayri by Varsha : 111522801

सूरज की लालिमा संग,
देखों चाँद खिला हैं, आधा.....

चल "वर्षा" चाँदनी का नूर चुराए,
आज श्रृंगार भी किया हैं, आधा.....
read more

Varsha 3 month ago

शुक्रिया 🙏🙏🙏

Varsha 3 month ago

शुक्रिया 🙏🙏🙏

shekhar kharadi Idariya 3 month ago

अति सुंदर

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories