Hindi Shayri by PAGAL_DEEWANA : 111520692

भटक कर शहर-शहर ये जाना है मैंने ;
खुदा के घर सा सुकून कहीं नहीं,
मां के आंचल सा साया कहीं नहीं,
घर के दस्तरखान सा

read more

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories