Hindi Shayri by Monika : 111515519

बेहोश ही भले थे
होश आने पर अनदेखा
ग़म सता रहा
कुछ अपने लोगो की खता का पता बता रहा

shekhar kharadi Idariya 3 month ago

बहुत खूब...

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories