Hindi Poem by DHR : 111512650

मानवजाति के विकास पथ पर, यह कैसा साया चा गया;
जितना अभिमान था हमें, हमारे इन आविष्कारों पर,
वह आज रह गए है सब धरे के

read more

View More   Hindi Poem | Hindi Stories