Hindi Shayri by Nimisha : 111512482

महबूब की सूरत पर नहीं सीरत पर मरिये।
गुनाह ए इश्क़ को बड़ी शिद्दत से करिये
© निमिषा

Nimisha 3 month ago

शुक्रिया

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories