Hindi Shayri by Raje. : 111506737

अगर तु हरी की राधा है,
तो मैं खरा सुदामा हूं।
गौर से अपनी आंखों में
उस समंदर में तैरता में अकेला मछुआरा हु।

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories