Free Hindi Poem Quotes by jaydev singh | 111499272

स्त्री का शरीर
मुझे क्यों इतना घूरते हो मैं भी उसी चमड़ी की हूं,
मेरे पास भी वो ही हड्डी खाल हैं
चेहरा है और बाल

read more

View More   Hindi Poem | Hindi Stories