Hindi Shayri by अnu

#सामान

सफर भर सीट खाली ही रही, मेरे बराबर,
कोई सामान ही रख दो कि ये तन्हाई जाए।

Hemant Pandya રાજે જીંદગી તુજે તો સુલજાલું 7 month ago

उसका इशारा काफी होता है, समजलेना चाहीए, ढुढने से खुदा भी मील जाता है ,इनसा क्या चीज है, पर श्रथ्था और लगन होनी चाहिए, हु को छोडके अपने पन का एहसास जगाओ, ओर लोगेमे अच्छाई ढुढो, बुराइ नही, फिर देखना चमत्कार आप कन्फ्यूज हो जाओगी, कीसे पसंद करे कीसे फेल।।वेलकम

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories