Hindi Shayri by Krutika : 111494284

तुम रोज गुलाब भेजते रहना, हम अपने रिश्ते को गुलाबके बगीचे की तरह महका दैंगे।
कृतिका

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories