Hindi Shayri by Raje. : 111493931

तेरी आंह पर हम उस गली से भी गुजरे
जहा से हमें ठुकराया गया था।
क्या पत्थर बरसे मुझ पर ?
नहीं फ़ूल। कुछ देर की खाम

read more

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories