Hindi Shayri by Bhavna : 111490187

हमने तो उन्हें भगवान मान कर अपने मनमंदिर में बसाया था, हमें क्या खबर थी कि वो सच में ही पथ्थर की मूरत बन जायेंगे....

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories