Hindi Shayri by Roopanjali singh parmar : 111486015

हाथों की लकीरें देख कर उसने,
मुझसे इश्क़ करना छोड़ दिया।
उसे यकीन है हमारा मिलन नहीं होगा,
बस इसलिए ही मेरा दिल त

read more
Roopanjali singh parmar 3 month ago

जी शुक्रिया🙏🙏

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories