Hindi Poem by Saroj Verma

बावरा मन..!!

तुम कोई पाइनेप्पल केक तो नहीं
या फिर कोई वनीला आइसक्रीम
जिसे देखते ही मन खुशी से भर जाए

तुम

read more
rajendra shrivastava 6 month ago

मन को प्रभावित किया

Priyan Sri 8 month ago

अद्भुत... 👏👏

Saroj Verma 9 month ago

बहुत बहुत शुक्रिया जी🙏🙏😊😊

Saroj Verma 9 month ago

बहुत बहुत धन्यवाद 🙏🙏😊

Pawan Singh 9 month ago

सही कहा आपने, सन्तोष में ही असली सुख है ।👌👍

Saroj Verma 9 month ago

आप सबका बहुत बहुत शुक्रिया 🙏🙏😊

Saroj Verma 9 month ago

बहुत बहुत धन्यवाद सर 🙏🙏😊

Saroj Verma 9 month ago

बहुत बहुत धन्यवाद सर 🙏🙏😊

Prem Nhr 9 month ago

इस स्थिति में मन प्रकृति से निकटता का अनुभव करता है, जहाँ द्वेष का कोई स्थान नहीं होता होता है तो केवल समर्पण का भाव...।

Brijmohan Rana 9 month ago

बेहतरीन दिल के भावो को सजाया ,वाहहहहहहहहहहहह ।

Saroj Verma 9 month ago

बहुत बहुत शुक्रिया 🙏🙏😊

shekhar kharadi Idriya 9 month ago

वाह.. अद्भुत एवम ह्रदय को स्पर्शित कर दे ऐसी सर्व गुण संपन्न सृजन शैली..

View More   Hindi Poem | Hindi Stories